विनाशकारी प्रलय बांध टूटने से डूब गया एक शहर 11,309 लोगों की हुई मौत, 21 हजार लोगों की मरने की आशंका 

विनाशकारी प्रलय बांध टूटने से डूब गया एक शहर 11,309 लोगों की हुई मौत, 21 हजार लोगों की मरने की आशंका 

लीबिया में विनाशकारी बाढ़ से करीब 21 हजार लोग करने की आशंका जताई जा रही है। इस विनाशकारी प्रलय के बीच महामारी का खतरा भी देश दुनिया में बढ़ता जा रहा है, बांध टूटने से तटवर्ती क्षेत्रों में बाढ़ आ जाने से करीब 11,309 से ज्यादा मौतें हुई है, बाढ़ से बड़ी संख्या में मकान एवं इमारतें ध्वस्त हुई है। वहां का प्रशासन स्थिति को नियंत्रित करने में लगा हुआ है,

लीबिया सरकार ने बांध टूटने की जानकारी दी बांध टूटने से तटवर्ती क्षेत्रों में बाढ़ आ जाने से 11,309 लोगों की मौत बताई जा रही है। यह मौत का आंकड़ा 21,000 के पर भी कर सकता है।

MP News: बीजेपी की जारी हुई संभावित दुसरी सूची, 35 नाम लगभग हुऐ तय, विंध्य कि 3 सीटे सम्मिलित 

11,309 लोगों के मरने की हुई पुष्टि  

बीते एक सप्ताह में भूमध्य सागर में आए एक तूफान के चलते तटवर्ती क्षेत्र में तेज बारिश हुई थी इसी दौरान पानी का स्तर बढ़ रहा था जिसकी वजह से बांध टूट गया बांध टूटने से डेरना शहर में ऊंची पानी की लहरों ने पूरी आबादी को मिट्टी के तले दाब दिया। कुछ ही घंटे में मरने वालों की संख्या 11,309 अधिक पहुंच चुकी जिसकी पुष्टि की गई है। अभी भी 10,000 से अधिक लोग लापता है लापता लोगों की लगातार तलाश की जा रही पर अभी तक उनके जिंदा होने की संभावना कम नजर आ रही है।

बड़ी संख्या में मिल रहे शव 

मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो बाढ़ से बड़ी संख्या में मकान एवं इमारतें क्षतिग्रस्त हुई है। शासन प्रशासन इस स्थिति को नियंत्रित करने में जुट गया है। साथ ही राहत बचाव कार्य के लिए डॉक्टर्स विदाउट बॉर्डर्स की संख्या में लगे हुए हैं। शुक्रवार को बड़ी संख्या में शव मिले थे कीचड़ में दबे शवों को समुद्र से भी बड़ी संख्या में  बाहर निकाल गया।

डेरना में करीब 156 लोगों को हुआ डायरिया 

मीडिया रिपोर्ट्स का दावा है। की बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में शवों को दफनाना एक बड़ी चुनौती है। कीचड़ और मलबे में दबे शवों से दुर्गंध फैलना शुरू हो गई जिसके चलते अन्य बीमारियों के बढ़ने कि शंका जताई जा रही. लीबिया के बीमारी नियंत्रण विभाग के प्रमुख ने मीडिया को जानकारी दी की डेरना में करीब 156 लोगों को डायरिया हो गया है,

For Feedback - vindhyariyasat@gmail.com
Join Our WhatsApp Channel

Related News

Leave a Comment