धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री ने बताया ठठरी बरे का मतलब, इस शब्द का क्यों करते है इस्तेमाल 

धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री ने बताया ‘ ठठरी बरे’ का मतलब, इस शब्द का क्यों करते है इस्तेमाल 

बागेश्वर धाम के पंडित धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री लगातार चर्चाओं में रहते हैं उनका एक प्रसिद्ध तकिया कलाम है। जिसका उच्चारण वह लगातार करते हैं। उन्होंने खुद बताया कि इस शब्द का मतलब क्या है। और क्यों इसका वह इस्तेमाल करते हैं, उन्होंने बताया कि बागेश्वर धाम के भक्त इस शब्द से परिचित है। ‘ ठठरी बरे ‘ का मतलब है सत्य, यथार्थ, शाश्वत उन्होंने बताया कि एक दिन सब की ठठरी बरनी है। हालाकि कुछ जानकारी के अनुसार ठठरी का मतलब शरीर से भी जोड़ा जाता है,

क्यों करते है इस शब्द का इस्तेमाल

उन्होंने बताया कि इस शब्द का इस्तेमाल सत्य के लिए करता हूं। जो बागेश्वर धाम के भक्त है। हमारा परिवार है, वो इस शब्द को अच्छी तरह जानते है। और जो इसको नही जानता उसकी ठठरी बर रही है,

वीडियो नीचे है,,,

Mauganj News: तेजतर्रार है मऊगंज की नई कलेक्टर सोनिया मीणा
Mauganj News: आज से लिखने लगे ‘मऊगंज जिला ‘ जारी हुई अधिसूचना
Viral video: 65 वर्षीय बुजुर्ग ने चलती बाइक पर दिखाया करतब, वीडियो हुआ सोशल मीडिया पर वायरल

For Feedback - vindhyariyasat@gmail.com
Join Our WhatsApp Channel

Related News

Leave a Comment